लेखांकन नीतियां

Accounting Policies in Hindi
Lekhankan Nitiyan in Hindi

लेखांकन नीतियां क्या है? [What is Accounting Policies in Hindi]

लेखांकन नीतियां एक कंपनी के प्रबंधन टीम की ओर से लागू किए गए विशिष्ट सिद्धांत और प्रक्रियाएं हैं जो इसका वित्तीय विवरण तैयार करने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं. इनमें किसी भी लेखांकन विधियों, माप प्रणालियों और प्रकटीकरणों को प्रस्तुत करने की प्रक्रियाएं शामिल हैं. साथ ही  लेखांकन नीतियां लेखांकन सिद्धांतों से अलग होती हैं. बतादें कि सिद्धांत लेखांकन नियम हैं और नीतियां उन नियमों का पालन करने का एक कंपनी का तरीका है.

लेखांकन नीतियां कैसे उपयोग की जाती हैं [How Accounting Policies Are Used]

लेखांकन नीतियां ऐसे मानकों का एक समूह हैं, जो शासित करती हैं कि कैसे एक कंपनी अपने वित्तीय विवरण तैयार करती है. वहीं इन नीतियों का उपयोग खासतौर  पर जटिल लेखांकन प्रथाओं जैसे मूल्यह्रास विधियों, सद्भावना की मान्यता, अनुसंधान और विकास की तैयारी (आरएडडी) लागत, इन्वेंट्री वैल्यूएशन और वित्तीय खातों के समेकन से निपटने के लिए किया जाता है. ये नीतियां एक कंपनी से दूसरी कंपनी में अलग हो सकती हैं, लेकिन सभी लेखांकन नीतियों को सामान्यत स्वीकृत लेखा सिद्धांतों (GAAP) और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग मानकों (IFRS) के अनुरूप होना जरूरी है.

लेखांकन सिद्धांतों को एक ढांचे के रूप में सोचा जा सकता है, जिसमें एक कंपनी के संचालन की उम्मीद है. लेकिन रूपरेखा कुछ हद तक लचीली है, और कंपनी की प्रबंधन टीम विशिष्ट लेखांकन नीतियों को चुन सकती है जो कंपनी की वित्तीय रिपोर्टिंग के लिए फायदेमंद हैं. क्योंकि लेखांकन सिद्धांत कई बार उत्तरदायी होते हैं, इसलिए किसी कंपनी की विशिष्ट नीतियां बहुत जरूरी होती हैं.

पिछला लेखांकन विधि
अगला लेखांकन लाभ

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published. Required fields are marked *