राहुल गांधी से चर्चा में बोले रघुराम राजन- कोरोना से लोअर मिडिल और मिडिल क्लास के लिए बढ़ेगी मुश्किल

Raghuram Rajan said in discussion with Rahul Gandhi - Corona will increase difficulty for lower middle and middle class

रघुराम-राहुल

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी  ने आज (गुरुवार) अर्थव्यवस्था पर कोरोनो वायरस संकट के प्रभाव को लेकर RBI के पूर्व गवर्नर और मशहूर अर्थशास्त्री रघुराम राजन से चर्चा. इस दौरान रघुराम राजन ने कहा,  ‘हमें 65 हजार करोड़ रुपये चाहिए होंगे,  ये ज्यादा नहीं हैं. ये गरीबों को बचाने के लिए हैं.’

सोशल मीडिया पर प्रसारण

इस चर्चा का कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रसारण किया गया. रघुराम राजन ने कहा, ‘हमारे पास लोगों के जीवन को बेहतर करने का तरीका है. फूड, हेल्थ एजुकेशन पर कई राज्यों ने अच्छा काम किया है, लेकिन सबसे बड़ी चुनौती लोअर मिडल क्लास और मिडल क्लास के लिए है, जिसके पास अच्छे जॉब नहीं होंगे.’ उन्होंने आगे कहा कि आंकड़े चिंता पैदा करने वाले हैं, CMIE ने कहा है कि 10 करोड़ लोग वर्कफोर्स से बाहर हो जाएंगे, हमें बड़े कदम उठाने होंगे. साथ ही ‘मुझे लगता है कि ग्लोबल आर्थिक सिस्टम में कुछ गलत तो है, लोगों के पास नौकरी नहीं है, जिनके पास नौकरी है उनको आगे की चिंता है, आय का असमान वितरण हो रहा है अवसरों का सही वितरण करना होगा.’

लॉकडाउन खोलना ही होगा

रघुराम राजन ने कहा कि लॉकडाउन हमेशा के लिए नहीं रखा जा सकता. दूसरे लॉकडाउन का मतलब ये है कि आप पहले लॉकडाउन में पूरी तरह से सफल नहीं रहे. सरकार को इसे खत्म करने और उसके कुशलता से प्रबंधन की योजना बनानी होगी.

भारत की अर्थव्यवस्था 200 लाख करोड़ से ज्यादा की

रघुराम राजन ने कहा , ‘हमारी अर्थव्यवस्था 200 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की है और हम 65 हजार करोड़ रुपये का वहन कर सकते हैं. अर्थव्यवस्था को जल्द खोलना होगा और साथ ही कोरोनावायरस से निपटने के कदम भी उठाते रहने होंगे.

‘ राहुल गांधी के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सामाजिक सौहार्द में लोगों की भलाई है और इस चुनौतीपूर्ण वक्त में हम विभाजित रहने का जोखिम नहीं उठा सकते.

ज्यादा से ज्यादा जांच हो

RBI के पूर्व गवर्नर ने भारत में कोरोना की जांच की संख्या के मुद्दे पर कहा,  ‘अमेरिका में रोजाना औसतन 150000 जांच हो रही हैं. बहुत सारे विशेषज्ञ कह रहे हैं कि पांच लाख लोगों की जांच करनी चाहिए. भारत में हम रोजाना 20-25 हजार जांच कर रहे हैं. ऐसे हमें बड़े पैमाने पर जांच करनी होगी.’ रघुराम राजन वर्तमान में यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में प्रोफेसर हैं. साल 2013 में UPA सरकार में उन्हें रिजर्व बैंक का गवर्नर नियुक्त किया गया था.

पिछला हफ्ते के चौथे कारोबारी दिन भी बढ़त पर खुला बाजार,सेंसेक्स 33,400 पार, निफ्टी 9750 के पार खुला
अगला डाक घर की इस स्कीम से आपको मिलेगा 1 हजार रुपए का 69 हजार रुपए, जानें कैसे करें निवेश

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published. Required fields are marked *