जरूरी सूचना- Income Tax के नियमों में हुए बदलाव, टैक्सपेयर्स के लिए जानना बेहद जरूरी

Important information - changes in income tax rules, it is necessary for taxpayers to know

इनकम टैक्स

कोरोना वायरस संकट के चलते टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत मिली है. बतादें कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट  ने अपने कई अहम नियमों में बदलाव किया है. वहीं कुल मिलाकर 7 बदलाव किए गए हैं. टैक्सपेयर्स को इन बदलावों की जानकारी होनी चाहिए. इससे आपको रिटर्न फाइल करने से लेकर टैक्स सेविंग में मदद मिलेगी. आपको किसी भी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा.

बतादें कि इनकम टैक्स रिटर्न से लेकर टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट की समय सीमा बढ़ाई गई है. मार्च 2020 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने टैक्सपेयर्स के लिए कई तरह की छूट का ऐलान किया था. अब कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए समय सीमा को और आगे बढ़ाया गया है.

ITR दाखिल करने की आखिरी तिथि

वित्त वर्ष 2018-19 (AY 2019-20) के लिए बिलेटीड या रिवाइस्ड ITR दाखिल करने की अंतिम तारीख 31 मार्च 2020 थी लेकिन मार्च में इसे बढ़ाकर 30 जून 2020 कर दिया गया. अब एक बार फिर इस डेडलाइन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है.

Income Tax ऑडिट रिपोर्ट पेश करने की डेट

आमतौर पर, सैलरीड क्लास के लिए ITR दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई होती है. लेकिन, इस बार डेडलाइन को 30 नवंबर 2020 तक बढ़ाया गया है.

इनकम टैक्स विभाग के अनुसार, इनकम टैक्स ऑडिट रिपोर्ट पेश करने की तारीख भी 31 अक्टूबर 2020 तक बढ़ा दी गई है.

Income Tax छूट के लिए किए गए निवेश या भुगतान करने की तारीख

धारा 80C (LIC, PPF, NSC), 80 D (मेडिक्लेम), 80 G (डोनेशन) जैसी Income Tax छूट के लिए किए गए निवेश या भुगतान करने की तारीख को भी 31 जुलाई 2020 तक बढ़ा दिया गया है. ये एक्सटेंशन उन लोगों के लिए काफी फायदेमंद होगा जो अपने टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट करने में फिलहाल सक्षम नहीं हैं.

एसेसमेंट टैक्स भुगतान की डेडलाइन

मध्यम वर्ग को राहत देने के लिए सेल्फ-एसेसमेंट टैक्स भुगतान की तारीख को भी 30 नवंबर 2020 तक बढ़ा दिया है.

सेल्फ- एसेसमेंट टैक्स में जिन टैक्सपेयर्स की लायबिलिटी 1 लाख रुपए तक है, उनके लिए ये समय सीमा बढ़ाई गई है. लेकिन, ब्याज CSX छूट उन मामलों तक सीमित है, जहां टैक्स लायबिलिटी 1 लाख से कम है.

कैपिटल गेन पर छूट या रोल ओवर बेनिफिट लेने की समय सीमा

इनकम टैक्स एक्ट की धारा 54 से 54GB के तहत कैपिटल गेन पर छूट या रोल ओवर बेनिफिट लेने की समय सीमा को भी 30 सितंबर 2020 तक बढ़ा दिया गया है.

टीडीएस और टीसीएस स्टेटमेंट जारी करने की डेडलाइन

वित्त वर्ष 2019-20 के लिए TDS और TCS  स्टेटमेंट जारी करने की डेडलाइन को 31 जुलाई 2020 और 15 अगस्त 2020 तक बढ़ा दिया गया है.

पैन कार्ड को आधार से लिंक करने की अंतिम तारीख

पैन कार्ड को आधार से लिंक करने की आखिरी तारीख को भी 31 मार्च 2020 तक बढ़ा दिया गया है.

पिछला ब्लैक मनी - स्विस बैंक से दूरी बना रहे भारतीय, 30 साल में तीसरी बार सबसे कम आंकडा
अगला जीएसटी रिटर्न फाइलिंग- लेट फीस की छूट पर सीबीआईसी ने उठाए सवाल, जानें क्या कहा

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published. Required fields are marked *