GST रिटर्न नहीं भरा तो फ्रीज हो सकता है आपका बैंक खाता या जब्त होगी प्रॉपर्टी

If the GST return is not filled then your bank account Seized

ये खबर आपके लिए बहुत जरूरी है. अगर आप जीएसटी रिटर्न (GST Return) दाखिल नहीं करते हैं तो ये आप पर भारी पड़ सकता है. बतादें कि आने वाले समय में जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं करने पर जीएसटी अधिकारी आपकी प्रॉपर्टी या बैंक अकाउंट को अटैच कर सकते हैं. वहीं बहुत जल्द वस्तु एवं सेवा कर (GST) को लेकर नियम काफी सख्त होने वाला है. साथ ही कुछ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार , सेंट्रल बोर्ड ऑफ इंनडायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम (CBIC) ने जीएसटी पेमेंट्स (GST Payments) को लेकर एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रक्रिया (SoP) तैयार किया है.

GST रिटर्न के नॉन फाइलिंग को लेकर उठा ये कदम

वहीं बिजनेसलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक, अगर कारोबारियों ने अपना जीएसटी रिटर्न फाइल नहीं किया है, तो उनके बैंक अकाउंट जब्त हो सकते हैं या फिर उनका रजिस्ट्रेशन कैंसिल किया सकता है. वित्त मंत्रालय ने जीएसटी रिटर्न के नॉन फाइलिंग को लेकर SoP का हिस्सा रखा है.

करीब 20 प्रतिशत कारोबारी नहीं भरते GST रिटर्न

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि कारोबारियों (Assessees) को हर महीने (नॉर्मल सप्लायर) या फिर तीन महीनों (कंपोजिशन स्कीम लेने वाले सप्लायर) पर जीएसटी रिटर्न भरना होता है. लेकिन, लगभग 20 प्रतिशत कारोबारी जीएसटी रिटर्न नहीं भरते, जिससे रेवेन्यू कलेक्शन प्रभावित होता है,  जिसके चलते CBIC ने GST पेमेंट के डिफॉल्ट्स से निपटने के लिए SOP तैयार किया है.

दूसरी ओर नोटिस के जरिए दी जाएगी जानकारी के तहत अगर कारोबारी ड्यू डेट तक जीएसटी रिटर्न फाइल नहीं करते हैं तो उनके पास सिस्टम जेनरेटेड नोटिस भेजा जाएगा. अगर अगले पांच दिनों में भी ड्यू क्लियर नहीं किया गया तो इसके बाद अगली नोटिस भेजी जाएगी, जिसमें 15 दिनों का वक्त दिया जाएगा.

कारोबारियों को मिलेगा मौका

अगर 15 दिनों में भी पेमेंट नहीं किया तो एक ऑफिसर उस कारोबारी की टैक्स लायबिलिटी चेक करेगा,  जिसके बाद Form GST ASMT-13 इशू होने के बाद उससे रिटर्न की रिकवरी मांग सकता है. ये फॉर्म बकाया चुका देने की स्थिति में वापस ले लिया जाएगा.

बतादें कि इस एक्ट में कहा गया है कि असेसी को अपना पक्ष रखने का मौका दिया जाएगा, जिसके बाद ही रजिस्ट्रेशन कैंसल करने को लेकर विचार किया जाएगा.

पिछला अधिकृत शेयर पूंजी
अगला स्वचालित बचत योजना

अपनी टिप्पणी लिखें

Your email address will not be published. Required fields are marked *